Battisa Temple

बत्तीसा मंदिर एक एतिहासिक स्मारक

दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय से 33 किलो मीटर दूर  बारसूर नगर में स्थित बत्तीसा मंदिर एक एतिहासिक स्मारक है l बत्तीसा मंदिर जगदलपुर से 100 किलो मीटर की दुरी पर है l यहाँ दो पूर्वमुखी मंदिर है जिनका एक साझा प्रांगण…

Read More
महामाया शक्तिपीठ I sanskritikchhattisgarh.in

महामाया शक्तिपीठ – रतनपुर , बिलासपुर

mahamaya शक्तिपीठ छत्तीसगढ़ में देवियां अनेक रूपों में विराजमान हैं। छत्तीसगढ़ में अनादि काल से शिवोपासना के साथ साथ देवी उपासना भी प्रचलित थी।  यहां के सामंतो, राजा-महाराजाओं, जमींदारों आदि की कुलदेवी के रूप में प्रतिष्ठित आज श्रद्धा के केंद्र…

Read More
Cher Chera

छेरछेरा : अन्न दान का महापर्व

अन्न दान का महापर्व छेरछेरा छत्तीसगढ़ में यह पर्व नई फसल के खलिहान से घर आ जाने के बाद मनाया जाता है। इस दौरान लोग घर-घर जाकर लोग अन्न का दान माँगते हैं। वहीं गाँव के युवक घर-घर जाकर डंडा…

Read More
SanskritikChhattisgarh

छत्तीसगढ़ : एक ऐसा गढ़, जहाँ लोकगीतों, लोककथाओं और लोक नाचाओ की भरमार है।

छत्तीसगढ़ में राउत नाचा एक ऐसा लोक नाचा है , जो लोक नाचा और लोकगीत का समिश्रण है जो आज भी गांवों में जीवंत है। राउत नाचा समाज के एक विशेष वर्ग जिसे राउत, रावत ,यादव ,  ठेठवार, यदु आदि…

Read More
Chhattisgarh

दूधाधारी मठ राजधानी के ऐतिहासिक स्मारकों में से एक !

दूधाधारी मठ राजधानी के ऐतिहासिक स्मारकों में से एक है यहां की खूबसूरती सभी को अपनी ओर आकर्षित करती है। इतिहासकारों का कहना है कि 16वीं शताब्दी की शुरुआत में दूधाधारी मंदिर का निर्माण हुआ। यहां मुगलों तथा अंग्रेजों के…

Read More